समाचार

खुले में भवन सामग्री मिली तो होगा जुर्माना

लखनऊ : नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) खुले में भवन सामग्री पाए जाने पर 20 हजार से एक लाख रुपये तक का जुर्माना लगाएगा। खास बात यह है कि हर्जाना वसूलकर उसे एक अलग फंड में जमा किया जाएगा और इस फंड का इस्तेमाल पर्यावरण संरक्षण के लिए किया जाएगा। एलडीए और आवास विकास परिषद को एनजीटी ने लिखे पत्र में कहा है कि इस नियम का उल्लंघन करने वाले बिल्डरों और भवन निर्माताओं पर जुर्माना लगाएं। एलडीए को मलबा खुले में न रखने और भवन निर्माण सामग्री को बिना ढके न मंगाने जैसी शर्त बिल्डरों और आवेदकों को नक्शा पास कराते समय ही रखनी होगी।
निर्माण सामग्री को बिना ढके सड़क पर वाहनों से ले जाने पर मनाही होगी। तीन तरह से जुर्माना लगेगा। बिना ढंके हुए सामग्री ले जाने वाले ट्रांसपोर्ट पर पांच हजार रुपये का जुर्माना लगेगा। जबकि बिल्डर और भवन निर्माणकर्ता पर 50 हजार रुपये और वायु प्रदूषण पाए जाने पर 20 हजार से एक लाख रुपये तक जुर्माना लगेगा। एनजीटी ने कहा है कि बिल्डर और भवन निर्माण कराने वालों को कंस्ट्रक्शन एरिया को ढककर रखना होगा। निर्माण के समय उड़ने वाली मिट्टी और धूल पर स्प्रिंकलर से छिड़काव किया जाए। साथ ही पत्थर काटने के काम में भी सतर्कता बरतते हुए इससे निकलने वाली धूल को कम किया जाए। निर्माण स्थल पर प्रदूषण के कारण कोई मजदूर बीमार न हो इसके लिए बिल्डर और निर्माणकर्ता को उनके स्वास्थ्य का भी इंतजाम करना होगा।

Comments

comments

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Most Popular

To Top