शिक्षा/रोज़गार

​हिन्दी सहित्य की महत्वपूर्ण पत्रिका “वाड्·मय”  को विश्वविद्यायलय अनुदान आयोग ने मान्यता प्राप्त पत्रिका की सूची में शामिल किया

हिन्दी सहित्य की महत्वपूर्ण पत्रिका “वाड्·मय”  को विश्वविद्यायलय अनुदान आयोग ने मान्यता प्राप्त पत्रिका की सूची में शामिल किया।ये पत्रिका विगत 15 वर्षों से निरंतर निकल रही है। ये पत्रिका सामान्य अंकों के साथ-साथ कई महत्वपूर्ण विशेषांक भी प्रकाशित कर चुकी है। वाड्·मय ने अधिकांश अंक हाशिये के नीचे जीवन व्यतीत करने वालों के ऊपर केन्द्रित किया है। उसमें प्रमुख हैं- दलित विशेषांक, नारी विशेषांक, आदिवासी विशेषांक एवं किन्नर विशेषांक। 

Comments

comments

Most Popular

To Top