शिक्षा/रोज़गार

केजीएमयू के शोधकर्ताओं का खुलासा, चीन के बैक्टीरिया कर रहे भारतीय मरीजों पर हमला

लखनऊ .

चीन के खतरनाक बीजिंग बैक्टीरिया ने भारत पर हमला बोल दिया है। यह खतरनाक बैक्टीरिया टीबी के सामान्य मरीजों को अपनी गिरफ्त में ले रहा है। नतीजतन, सामान्य टीबी के मरीजों में पहले स्टेज की दवाएं फेल हो रही हैं। इलाज के दौरान मरीज एमडीआर (मल्टी ड्रग रेजिस्टेंस) की चपेट में आ रहे हैं। यह खुलासा केजीएमयू के पल्मोनरी मेडिसिन विभाग और सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीट्यूट के शोध में हुआ है। डॉक्टरों का कहना है कि इस घातक बैक्टीरिया की रोकथाम फिलहाल मुश्किल है।

यह शोध लंग इंडिया जर्नल में प्रकाशित हुआ है। रेस्परेटरी क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग के डॉ. अजय वर्मा ने बताया कि फेफड़े के सामान्य टीबी के 107 मरीजों पर शोध हुआ। इनमें करीब 31.78 फीसदी मरीजों में बीजिंग बैक्टीरिया की पुष्टि हुई है। 25 से 60 साल की उम्र के लोगों को शोध में शामिल किया गया। लखनऊ और उसके आसपास के जिलों के लोगों पर शोध हुआ। उन्होंने बताया कि लगातार दो हफ्ते से ज्यादा खांसी व मुंह से खून आने की शिकायत लेकर मरीज ओपीडी में आए। बलगम व एक्सरे जांच कराई, जिसमें फेफड़े की टीबी की पुष्टि हुई। इन मरीजों में टीबी प्रथम स्टेज की दवा शुरू की गई। इलाज के बावजूद मरीजों की तबीयत में सुधार नहीं हुआ।

शोध में शामिल टीबी के 107 मरीजों ने कभी बीच में दवा नहीं छोड़ी। लगातार पांच से छह माह टीबी की दवा खाई। इसके बावजूद मरीज की तबीयत में सुधार नहीं हुआ। दोबारा बलगम की जांच की तो बैक्टीरिया की संख्या बढ़ गई। इस आधार पर एमडीआर टीबी की जांच कराई गई। मरीजों में एमडीआर की पुष्टि हुई। उन्होंने बताया कि एमडीआर टीबी उन्हीं मरीजों को होता है जो बार-बार टीबी की दवा छोड़ देते हैं। बीमारी उभरने पर फिर दवा चालू कर देते हैं। शोध में शामिल मरीजों ने बीच में कभी दवा नहीं छोड़ी। इसके बावजूद बीमारी का प्रकोप कम होने की जगह बढ़ता गया। मरीज एमडीआर की चपेट में आ गए।

डॉ. वेद प्रकाश ने बताया बीजिंग बैक्टीरिया फेफड़े की टीबी से पीड़ित मरीजों को जद में ले रहा है। डॉ. अजय वर्मा ने बताया कि फेफड़े के टीबी से पीड़ित मरीजों में रोगों से लड़ने की ताकत कम हो जाती है। ऐसी दशा में बीजिंग बैक्टीरिया आसानी से मरीज को चपेट में ले लेता है।

डॉ. अजय वर्मा ने बताया कि भारत में बीजिंग के बैक्टीरिया का आना बेहद खतरनाक व चिंताजनक है। यूपी में बीजिंग बैक्टीरिया के प्रसार की प्रमुख वजह चीन के टीबी मरीज यहां आना हो सकता है। साथ ही, यहां का मरीज चीन गया हो तब वहां से बैक्टीरिया आ सकता है। 

Comments

comments

Most Popular

To Top