Uncategorized

गुजरात विधानसभा में भाजपा का मोर्चा संभालेंगे उत्तर प्रदेश के योद्धा

लखनऊ। गुजरात विधानसभा चुनाव की तैयारी में भाजपा जी-जान से जुटी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की प्रतिष्ठा से जुड़े इस चुनाव में भाजपाई अपना योगदान देने में सक्रिय हैं लेकिन, उत्तर प्रदेश के योद्धा विशेष रूप से वहां मोर्चा संभालेंगे। हिंदू  चेहरे के रूप में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ माहौल बनाएंगे जबकि कुर्मी बिरादरी को प्रभावित करने की जिम्मेदारी परिवहन मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वतंत्र देव सिंह को सौंपी गई है। स्वतंत्र गुरुवार को गुजरात के लिए रवाना होंगे।

गुजरात में भाजपा के पक्ष में माहौल बनने की पहली वजह विकास है लेकिन, हिंदुत्व का एजेंडा भी इसकी अहम कड़ी है। योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री बनने के बाद भी हिंदुत्व के एजेंडे को धार दी है। देश भर में उनकी यही छवि है। भाजपा गुजरात के चुनाव में इस छवि को भुनाएगी। योगी के यूं तो पूरे चुनाव भर वहां कार्यक्रम लगने के संकेत मिले हैं लेकिन, इसी पखवारे कानपुर में भाजपा की कार्यसमिति की बैठक के बाद उनका गुजरात जाना तय है।

योगी वहां पदयात्रा में शामिल होंगे। बुधवार को केरल में भी योगी की पदयात्रा निकली और उन्हें अपार समर्थन मिला। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता डॉ. चंद्रमोहन कहते हैं कि ‘गुजरात में उत्तर प्रदेश के नेताओं और पार्टी के कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी मिलना सौभाग्य की बात है। गुजरात की गौरवशाली परंपरा को मजबूती देने में उत्तर प्रदेश के नेता अहम भूमिका निभाएंगे।

परिवहन मंत्री और भाजपा के प्रदेश महामंत्री स्वतंत्र देव सिंह को चुनाव में रैली और पीएम की सभाओं की जिम्मेदारी दी गई थी। भाजपा वहां उनके अनुभवों का लाभ उठाएगी। हार्दिक पटेल ने आरक्षण आंदोलन ने भी वहां कुर्मी बिरादरी को लामबंद किया है। स्वतंत्र देव सिंह को भाजपा ने आगे बढ़ाकर देश स्तर पर कुर्मी नेता के रूप में स्थापित करने का काम किया है। वह गुजरात में भी इस बिरादरी में माहौल बनाने का काम करेंगे। स्वतंत्र देव के अलावा ग्राम्य विकास राज्यमंत्री डा. महेंद्र सिंह को गुजरात भेजा रहा है।

असम चुनाव में अपनी संगठनात्मक क्षमता दिखा चुके महेंद्र सिंह समेत आधा दर्जन मंत्रियों के नाम तय किए गए हैं जो गुजरात जाएंगे। इन नामों पर अभी भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की मुहर लगनी है। दरअसल, रोजगार के लिए अहमदाबाद और सूरत समेत कई महानगरों में उत्तर प्रदेश के लोग निवास करते हैं। मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद दोनों राज्यों के रिश्तों में और मजबूती आई है। उत्तर प्रदेश के नेता इस बड़ी आबादी को भी प्रभावित करेंगे। 

Comments

comments

Most Popular

To Top